जम्मू एवं कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले संविधान के अनुच्छेद 370 को ख़त्म करने के केंद्र सरकार के आदेश के बाद देश की आंतरिक ख़ुफ़िया एजेंसी इंटेलीजेंस ब्यूरो (आईबी) ने दिल्ली पुलिस को राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में बड़े आतंकवादी हमले का अलर्ट जारी किया है।

आईबी की टॉप सीक्रेट रिपोर्ट में कहा गया है, “अंतर्राष्ट्रीय प्लेटफ़ॉर्म्स पर जैश-ए-मोहम्मद (जेईएम) और लश्कर-ए-तैयबा (एलईटी) की पोल खुलने के बाद पाकिस्तान की आईएसआई (इंटर-सर्विसेसज इंटेलीजेंस) का नया ‘पोस्टर बॉय’ अल-उमर-मुजाहिद्दीन (एयूएम) है और यह घाटी से बाहर बड़े आतंकवादी हमले करने में सक्षम है।”

पाकिस्तान के आतंकवादी संगठन एयूएम का अगुआ कश्मीर का ख़ूँख़ार आतंकवादी मुश्ताक अहमद जरगर उर्फ़ मुश्ताक लातराम है, जिसके मोड्यूल ने इसी साल 12 जून को श्रीनगर के निकट अनंतनाग में आतंकवादी हमला किया था, जिसमें सीआरपीएफ़ के पांच जवान शहीद हो गए थे।

ये भी पढ़ें: कैटी पेरी 16 नवंबर को मुंबई में प्रस्तुति देंगी

आईबी की रिपोर्ट में कहा गया, “जरगर ने जम्मू एवं कश्मीर तथा पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) के लड़कों को भर्ती किया है। अनुच्छेद 370 के हटाए जाने के बाद आईएसआई का उद्देश्य जरगर के लड़कों से जम्मू एवं कश्मीर के अंदर तक भारत के अन्य भागों में आतंकवादी हमले कराना है।”

दिल्ली पुलिस के शीर्ष अधिकारियों को सुरक्षा संबंधी जानकारी देते हुए आईबी ने उन्हें आईएसआई की योजना से निपटने के लिए एनसीआर में कठोर आतंकवाद-रोधी क़दम उठाने (संबद्ध राज्य की पुलिस के सहयोग से) की सलाह दी। पुलिस द्वारा उठाए गए कदमों में साइबर कैफ़ेज़ के साथ-साथ पुरानी कारों के विक्रेताओं, सिम कार्ड विक्रेताओं, रसायन की दुकानों पर कड़ी नज़र रखने के अलावा अन्य गोपनीय क़दम उठाए हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि वर्तमान में एयूएम का मुख्यालय मुज़फ्फ़राबाद (पीओके) में है, जहां यह संगठन आईएसआई अधिकारियों की निगरानी में एक आतंकवादी शिविर संचालित करता है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि वर्तमान में पाकिस्तान की सरकार, उसकी सेना और आईएसआई (सभी तीन) मिलकर काम कर रहे हैं और कश्मीर मुद्दे का अंतर्राष्ट्रीयकरण करने के लिए उतावले हैं। रिपोर्ट में इस्लामाबाद के गुप्त लक्ष्य के बारे में कहा गया है, “केवल भड़काऊ (आतंकवाद) कार्रवाई करनी है, इरादा अंतर्राष्ट्रीयकरण का है।”

इस ख़तरनाक योजना के लिए घाटी से बाहर बड़े आतंकवादी हमले करने के लिए आईएसआई फिदायीन संगठनों को प्रशिक्षित कर रहा है, जिनमें प्रमुख रूप से एयूएम है। रिपोर्ट में कहा गया कि अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद कश्मीर पर पाकिस्तानी सेना प्रमुख कमर जावेद बाजवा के खुले रुख़ ने स्पष्ट रूप से आईएसआई को बड़ी आतंकवादी घटनाएं अंजाम देने के लिए आतंकवादी संगठनों को जिम्मेदारी देने की खुली छूट दे दी है।

रिपोर्ट्स में ख़ुलासा हुआ है कि आईएसआई फ़िदायीन के माध्यम से आतंकवादी हमले की योजना बना सकता है, इसमें या तो कोई मानव बम हो सकता है या भारी विस्फ़ोटकों से भरा कोई वाहन (वीबी-आईईडी) हो सकता है। दुनियाभर का ध्यान इधर खींचने के उद्देश्य से बड़ा आतंकवादी हमला करने के लिए आतंकवादी आईईडीज लगाने के साथ-साथ उच्च-सुरक्षा बाले क्षेत्रों, घाटी के बाहर भारत के प्रमुख शहरों में अंधाधुन गोलीबारी की घटना को अंजाम दे सकते हैं।

दिल्ली पुलिस के सूत्रों ने कहा कि शीर्ष पुलिस अधिकारी सुरक्षा पर निगरानी रख रहे हैं और ऐसे हमलों के लिए संवेदनशील क्षेत्रों में अतिरिक्त सतर्कता बरते हुए हैं।

–आईएएनएस

ये भी पढ़ें: आप ही के कर्मों का फल है फ़िल्म ‘साहो’

ये भी पढ़ें: बिहार में शराब के बाद अब पान मसाला पर भी प्रतिबंध

Leave a Reply