भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने सोमवार को अपनी सीमांत लागत आधारित उधारी दर (मार्जिनल कास्ट लेंडिंग रेट या एमसीएलआर) में 10 आधार अंकों की कटौती और सावधि जमा पर दरें घटाने की घोषणा की। बैंक ने कहा कि उसने सभी फिक्सड जमा पर ब्याज दर घटा दिया है।

दरों में कटौती के बाद एक साल की एमसीएलआर आधारित उधारी दर, कम होकर 8.15 फीसदी हो जाएगी।

इस वित्तीय वर्ष में अब तक ऋणदाता द्वारा एमसीएलआर में यह लगातार पांचवीं बार कमी की गई है।

ब्याज दरों में कटौती भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की रेपो दर में 1.1 फीसदी की कमी के समर्थन में हुई है। रेपो रेट मुख्य ब्याज दर है, जिस पर वह वाणिज्यिक बैंकों को अल्पकालिक अवधि के लिए उधार देता है।

नई दरें 10 सितंबर से प्रभावी होंगी।

–आईएएनएस

ये भी पढ़ें: सिखों को मिलेगा मल्टीपल ऑन-अराइवल वीज़ा: इमरान ख़ान

ये भी पढ़ें: 10 सरकारी बैंकों को मिलाकर 4 बैंक बनाएगी सरकार

Leave a Reply