क़रीब 60 साल पहले वे एक अच्छे परिवार में पैदा हुई थी। दुर्भाग्य से वे अपने माता-पिता से अलग हो गई। बाद में उन्होंने एक रसोइये से शादी की, जो मरहूम बॉलीवुड स्टार फ़िरोज़ ख़ान के यहां काम करते थे। उनके साथ वे पश्चिम बंगाल से मुंबई आ गई। लेकिन उसके बाद उनके परिवार में ‘दरार’ उभरने लगे और इसी के साथ ही जीवन-यापन के लिए उनका संघर्ष भी बढ़ गया।

साल 2019 में.. आज वे रानाघाट रेलवे स्टेशन की गायिका रानू मंडल, एक इंटरनेट सनसनी और एक नवोदित बॉलीवुड गायिका हैं।

रानू ने आईएएनएस से मुंबई में बात की, जहां उन्होंने अपने तेज़ी से बढ़ते फ़ैन्स बेस के साथ फ़ेसबुक लाइव सेसन ख़त्म किया था। उन्होंने कहा, “मेरे जीवन की कहानी बहुत लंबी है। मेरे जीवन की कहानी पर एक फ़िल्म बन सकती है। यह एक ख़ास फ़िल्म होगी।”

ये भी पढ़ें: सीरिया के इदलिब में हवाई हमलों में 50 विद्रोही मारे गए

महज़ कुछ ही हफ़्तों पहले की बाद है, जब उनका एक वीडियो ऑनलाइन वायरल हुआ था, जिसमें वह लता मंगेशकर के सदाबहार गाने ‘एक प्यार का नग़मा है’ को रेलवे प्लेटफ़ार्म पर गा रही थी।

इस वीडियो पर कई चैनलों और म्यूज़िक कंपोज़रों का ध्यान गया, जिसमें हिमेश रेशमिया भी शामिल थे, जिन्होंने उन्हें प्लेबैक सिंगर के रूप में बॉलीवुड में लांच करने की पेशकश की। उन्होंने रियलिटी शो ‘सुपरस्टार सिंगर’ के एक एपिसोड की भी रिकार्डिग की।

उन्हें अभी सफ़लता का स्वाद मिल रहा है, लेकिन वायरल वीडियो से पहले उनकी ज़िन्दगी कुछ और ही थी।

वह याद करते हुए कहती हैं, “मैं फ़ुटपाथ पर पैदा नहीं हुई थी। मैं एक अच्छे परिवार से थी, लेकिन यह मेरी नियति थी, जब मैं अपने माता-पिता से केवल छह महीने के उम्र में अलग हो गई।”

हालांकि उनकी दादी ने उन्हें पालापोसा, लेकिन उनके लिए जीवन आसान नहीं था।

ये भी पढ़ें: ट्विटर के सीईओ जैक डोर्सी का ट्विटर अकाउंट हुआ हैक

रानू कहतीं हैं, “हमारे पास घर था। लेकिन आप जानते हैं कि उसे चलाने के लिए लोगों की ज़रूरत होती है। कई दिन अकेलेपन के थे। मैंने बहुत संघर्ष किया, लेकिन हमेशा से मेरा भगवान में भरोसा था। मैं परिस्थितियों के मुताबिक़ गाना गाती थी। यह ऐसा नहीं था कि मुझे गाना गाने का मौक़ा दिया गया, बल्कि मुझे गाना गाने से प्यार था, इसलिए मैं गाना गाती थी।”

उन्होंने याद करते हुए कहा, “मैं लता मंगेशकर के गाने सीखती थी। उन्होंने मुझे नहीं सिखाया, लेकिन मैंने रेडियो और कैसेट से सीखा।”

सालों बाद, उन्होंने शादी की।

रानू ने बताया, “हम शादी के बाद पश्चिम बंगाल से मुंबई शिफ़्ट हो गए। मेरे पति फ़िल्मस्टार फ़िरोज़ ख़ान के घर में रसोइया थे। उस समय उनका बेटा फ़रदीन कॉलेज में था।”

ये भी पढ़ें: सैमसंग काम कर रही है सस्ते गैलेक्सी फ़ोल्ड पर

रानू ने कहा, “वे हमारे साथ बहुत अच्छा व्यवहार करते थे, अपने परिवार के सदस्यों की तरह।”

उन्होंने मुंबई में अपने जीवन का आनंद लिया, नई-नई फ़िल्में देखी, जिसमें जैकी श्रॉफ़ की फ़िल्म ‘हीरो’ भी थी। लेकिन उसके बाद उनका ‘परिवार टूट गया’ और वे वापस अपने गृह राज्य आ गईं।

अब वर्तमान में, वह बहुत ख़ुश हैं। फिर से वे अपनी बेटी के साथ हैं और ख़ुद के बॉलीवुड डेब्यू की प्रतीक्षा कर रही हैं।

उन्होंने कहा, “मैं बहुत ख़ुश हूं और बहुत अच्छा महसूस कर रही हूं। बात यह है कि मुंबई में संगीत की सुविधाएं मेरे लिए बहुत मायने रखती है। वे महत्वपूर्ण हैं। मेरे घर से मुंबई आना और फिर हवाई जहाज़ से लौटना भी कठिन है। अच्छा होता अगर मुंबई में मेरा एक घर होता। लेकिन मुझे इसके लिए सोचने की ज़रूरत नहीं है। भगवान हैं।”

ऐसी ख़बरें थी कि सुपरस्टार सलमान ख़ान ने उन्हें एक फ़्लैट गिफ़्ट किया है।

उन्होंने इससे इनकार किया कि उन्हें उनसे कोई भी गिफ़्ट मिला है। रानू ने कहा, “मैं अभी तक सलमान से नहीं मिली हूं। लेकिन उनकी फ़िल्म ‘तेरे नाम’ बहुत अच्छी फ़िल्म थी।”

अपनी सुरीली आवाज़ और इंटरनेट की बदौलत उन्हें लोगों से बहुत सारे ऑफ़र्स मिल रहे हैं। अब यह उन पर है कि वे आगे क्या करना चाहती हैं।

–आईएएनएस

ये भी पढ़ें: बिहार में शराब के बाद अब पान मसाला पर भी प्रतिबंध

ये भी पढ़ें: भारत का ई-सिगरेट पर प्रतिबंध लगाने का क़दम दोषपूर्ण : कैंसर विशेषज्ञ

Leave a Reply