इसी दुनिया के किसी शहर में अंडरवर्ल्ड का बादशाह रॉय रहता है। एक डील के लिए वह मुंबई आता है और मारा जाता है। उसके बेटे को उसके कातिलों की तलाश है। वहीं कुछ लोग उसके बेटे को हटा कर उसकी कुर्सी पर बैठना चाहते हैं। इन सबको तलाश है एक ब्लैक-बॉक्स की जो मुंबई में कहीं है, ताकि उससे एक तिजोरी खोली जा सके। उधर मुंबई में एक चोर ने सबकी नाक में दम कर रखा है जिसे पकड़ने के लिए एक अंडरकवर अफ़सर को लाया जाता है। लेकिन ऐसी फ़िल्मों में जो दिखता है, वही सच नहीं होता। और ऐसी फ़िल्मों में लोग जैसे दिखते हैं, अक्सर वे उसके उलट होते हैं। तो बस, यहां भी एक-एक कर परतें खुलती हैं- कहानी की और लोगों की भी।

अब यह कोई नहीं कह सकता कि इस फ़िल्म में कहानी नहीं है। है, बाक़ायदा है और इतनी तगड़ी है कि यकीन नहीं होता कि यह अकेले सुजीत ने लिखी है। हो न हो, यह कहानी ज़रूर उनकी बरसों की तपस्या के बदले उन पर प्रकट हुई होगी। फ़िल्म शुरू होती है तो काफ़ी देर यह पता ही नहीं चलता कि आख़िर हो क्या रहा है। इस फ़िल्म की स्क्रिप्ट में इतने सारे ट्विस्ट हैं कि इसे लिखने वाले की अक़्ल की तारीफ़ करने का मन होता है। कितना दिमागदार आदमी रहा होगा वह जिसने ऐसी स्क्रिप्ट लिखी जो पूरे ब्रह्मांड में सिवाय उसके किसी को समझ ही नहीं आ रही। दरअसल यहां सारी ग़लती दर्शकों की है। ये लोग थिएटर में जाते हैं कि आराम से पसर कर फ़िल्म देखेंगे, दिमाग़ को रिलेक्स करेंगे। पर उन्हें यह नहीं मालूम कि सामने पर्दे पर उनके दिमाग़ का इम्तिहान लेने के लिए फ़िल्म को खुला छोड़ दिया गया है। आधे-पौने घंटे बाद जब बंदा सैटल होता है तो पता चलता है कि अभी तक जो देखा, वो सिर के ऊपर से निकल गया और अब सिर के अंदर हल्का-हल्का दर्द होने लगा है। ख़ैर, इंटरवल में बंदा कुछ गर्म खाकर और ठंडा पीकर सोचता है कि अब देखता हूं, कैसे समझ नहीं आती फ़िल्म। लेकिन फिर वही ढाक के तीन पात। अरे भई, आप फ़िल्म को समझना ही क्यों चाहते हो? चुपचाप एन्जॉय करो न जो सामने दिख रहा है। प्रभास की बॉडी देखो, श्रद्धा कपूर की मासूमियत देखो, ढेर सारे विलेनों की कुटिल चालें देखो, वर्ल्ड क्लास से भी बढ़ कर एक्शन देखो, कार-बाइक की चेज़िंग देखो, बेहद शानदार स्पेशल इफ़ैक्ट्स देखो, आंखों को भरमाने वाली लोकेशंस देखो, लेकिन नहीं, आपको तो कहानी चाहिए और वो भी ऐसी जो आपको समझ भी आए। धत्तत…!

ग़लती सारी आप दर्शकों की ही है। वो आप ही थे न जिसने ‘धूम 3’ को सुपर-डुपर हिट बनाया था? वो भी आप ही थे जिसने ‘रेस 3’ को सिर पर बिठाया था, ‘बैंग बैंग’ को कामयाबी का स्वाद चखाया था, ‘ठग्स ऑफ़ हिन्दोस्तान’ को भी आप ही ने पसंद किया था। हॉलीवुड से आने वाली ‘टर्मिनेटर’, ‘फास्ट एंड फ्यूरियस’, ‘ट्रांस्पोर्टर’ वगैरह के लिए आप ही बावले होते हैं न? तो जब आप ऐसी कचरात्मक फ़िल्में पसंद करते हैं तो फ़िल्म वालों को लगता है कि आप को सिर्फ़ यही सब चाहिए और ऐसे में वे ‘साहो’ बना कर ले आते हैं तो उन बेचारों की क्या ग़लती? इस फ़िल्म का ठीक से हिन्दी भी न बोलने वाला हीरो पंजाबी गाना गा रहा है क्योंकि आप ही लोगों को हर फ़िल्म में पंजाबी गाना चाहिए। रही बात कलाकारों की एक्टिंग की, तो वो तब की जाए न जब उनमें से किसी को कोई कायदे का किरदार मिला हो। हां, सूट-बूट सबने ज़ोरदार पहने हैं।

दरअसल यह फ़िल्म आपको अच्छे दिनों की तरफ़ ले जाती है। आप फ़ख़्र कर सकते हैं कि अपने मुंबई में कोई चोर दो लाख़ करोड़ की चोरी कर सकता है। आप यह सोच कर सीना फुला सकते हैं कि हमारे यहां की पुलिस अति आधुनिक और अति अक़्लमंद हो गई है। इस फ़िल्म का एक्शन और स्पेशल इफ़ैक्ट्स देख कर आप चकाचौंध हो सकते है। और चाहें तो आप इस बात पर भी गर्व महसूस कर सकते हैं कि तीन सौ पचास करोड़ लगा कर करोड़ों लोगों को तीन घंटे तक कैसे चू… रन चटाया जा सकता है। और हां, एक बात फिर कहूंगा-जिस फ़िल्म के निर्देशक के पास अपनी फ़िल्म के लिए कायदे का नाम तक न हो तो समझ लीजिए उसे ख़ुद ही नहीं पता कि वह क्या बना रहा है, किसके लिए बना रहा है। बचिए, ऐसे लोगों से, ऐसे लोगों की फ़िल्मों से। क्योंकि, ठग्स पूरे हिन्दोस्तान में हैं। और अगर फिर भी आपको यह फ़िल्म देखने जाना है तो चार दोस्त साथ लेकर जाइएगा ताकि, 1-वे आपको फ़िल्म समझा सकें और 2-यदि फ़िल्म के दौरान कुछ ‘ऐसा-वैसा’ हो जाए तो फिर चार कंधों की ज़रूरत तो हर किसी को पड़ती है। है न…!

ये भी पढ़ें: मार्वेल जल्द करेगा दुनिया की पहली मुस्लिम सुपरहीरो को लॉन्च

ये भी पढ़ें: कैटी पेरी 16 नवंबर को मुंबई में प्रस्तुति देंगी

Author

दीपक दुआ फ़िल्म समीक्षक व पत्रकार हैं। 1993 से फ़िल्म-पत्रकारिता में सक्रिय। मिजाज़ से घुमक्कड़। अपने ब्लॉग ‘सिनेयात्रा डॉट कॉम’ (www.cineyatra.com) के अलावा विभिन्न समाचार पत्रों, पत्रिकाओं, न्यूज़ पोर्टल आदि के लिए नियमित लिखने वाले दीपक ‘फ़िल्म क्रिटिक्स गिल्ड’ के सदस्य हैं और रेडियो व टी.वी. से भी जुड़े हुए हैं।

Leave a Reply