पाकिस्तान की संसद में सिंध प्रांत के घोटकी में हुए हिंदू विरोधी दंगे का मुद्दा मंगलवार को उठाया गया और सांसदों ने अल्पसंख्यकों की सुरक्षा को लेकर गंभीर चिंता जताई। पाकिस्तान मुस्लिम लीग (नवाज) के नेता ख्वाजा आसिफ ने कहा कि घोटकी की घटना को लेकर हिंदू समुदाय में व्यापक चिंता है। यह हमारी जिम्मेदारी है कि हम अल्पसंख्यकों को सुरक्षा मुहैया कराएं। वे वफादार पाकिस्तानी हैं। उन्होंने कहा कि एक स्पष्ट संदेश दिया जाना चाहिए कि उनकी सुरक्षा हमारा कर्तव्य है और संसद इस पर अमल करेगी।

संसदीय कार्य राज्य मंत्री एम. अली खान ने कहा कि सरकार की निगाह में सभी पाकिस्तानी बराबर हैं। संघीय सरकार अपनी जिम्मेदारी निभाने के लिए तैयार है लेकिन घोटकी का मामला सिंध की प्रांतीय सरकार के अधिकार क्षेत्र में आता है।

सांसद जयप्रकाश ने कहा कि जिस शिक्षक पर ईशनिंदा का आरोप लगाया गया, वह बीते तीस साल से स्कूल चला रहे हैं जबकि एक 14 साल के छात्र के आरोप पर उनके खिलाफ मामला दर्ज हो गया। उन्होंने मंदिर पर हमले की निंदा की और अफसोस जताया कि इस हमले में शामिल एक भी व्यक्ति को अभी तक गिरफ्तार नहीं किया गया है। उन्होंने कहा कि हिंदू न्याय के अधिकारी हैं।

ये भी पढ़ें: पाकिस्तान ने भारत के साथ पर्दे के पीछे से वार्ता को नकारा

सांसद रमेश कुमार ने भी मंदिर पर हमला करने वालों को दंडित करने की मांग की। उन्होंने कहा, “मुझे पाकिस्तानी होने पर गर्व है और हिंदू पहले पाकिस्तानी हैं।”

सांसद डॉ. दर्शन पुंशी ने कहा, “हिंदू समुदाय में इस घटना को लेकर दुख है। दो दिनों तक हिंदुओं को प्रताड़ित किया गया, उनके मंदिर पर हमला किया गया।” उन्होंने हिंदू समुदाय के प्रति समर्थन जताने के लिए उलेमा को धन्यवाद दिया और कहा कि यह घटना (घोटकी दंगा) पाकिस्तान के खिलाफ साजिश है। उन्होंने हिंदुओं की सुरक्षा के लिए कानून बनाने की मांग की।

सांसद लालचंद ने कहा, “मंदिर में जो चीजें टूटी हैं, वे दोबारा मिल जाएंगी लेकिन अगर दिल टूट गए तो फिर इसकी भरपाई कभी नहीं होगी।”

ये भी पढ़ें: पुलवामा के बाद दिल्ली, एनसीआर था जैश के निशाने पर: एनआईए

सांसद मुफ्ती अब्दुल शकूर ने कहा, “इस्लाम अल्पसंख्यकों पर हमले और चरमपंथ की इजाजत नहीं देता।” उन्होंने घटना को क्रूर बताया और अल्पसंख्यकों की सुरक्षा की मांग की।

सांसद जमशेद थॉमस ने कहा कि दुख की इस घड़ी में ईसाई समुदाय हिंदू समुदाय के साथ है।

सरकार की तरफ से सांसद यूसुफ तालपुर ने सदन को बताया कि दंगे की प्राथमिकी में दर्ज 188 आरोपियों में से 18 को गिरफ्तार कर लिया गया है और बाकियों को जल्द कर लिया जाएगा।

सदन के स्पीकर असद कैसर ने कहा, “पूरा देश हिंदुओं के साथ है। इस आशय की सूचना है कि हिंदुओं की सुरक्षा के लिए मुसलमान पूरी रात जगे थे।”

–आईएएनएस

ये भी पढ़ें: वनप्लस 7टी, 7टी प्रो की बिक्री 15 अक्टूबर से शुरू होगी

ये भी पढ़ें: भारत का ई-सिगरेट पर प्रतिबंध लगाने का क़दम दोषपूर्ण : कैंसर विशेषज्ञ

Leave a Reply