अभी हाल ही में देश के सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या मामले ऐतिहासिक फ़ैसला सुनाया है। अयोध्या मामले पर देश में कई दशकों से लोग फ़ैसले का इंतज़ार कर रहे थे और पिछले दिनों उस पर सुप्रीम कोर्ट 1045 पेज का फ़ैसला आ गया और देश के सभी समाज के लोगों ने इस फ़ैसले पर सद्धभावना का उदहारण दिखाया। अभी इस मामले में एक नया मोड़ आया और मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने सुप्रीम कोर्ट के इस फ़ैसले को चैलेंज कर दिया है। इस मामले में ख़बरवॉर ने बीजेपी के नेता दानिश इक़बाल से संपर्क किया और और उनकी राय जानी तो उन्होंने कहा कि आल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड धर्म के चक्र व नशे में रखकर मुसलमानों का विनाश कर रही है, उन्होंने कहा कि दिल्ली में आल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सदस्य ज़फ़रयाब जिलानी और उनके जाहिल नेताओं का देश के मुस्लमान पूरी तरह विरोध कर रहे हैं और दानिश इक़बाल ने आह्वान किया कि देश के सारे लोग इनका बहिष्कार करें और ये मुसलमान के नाम पर अपनी दुकान चला रहे हैं। उन्होंने आगे कहा कि ये वर्चस्व के लिए ये लोग अपने देश में सांप्रदायिक माहौल बनाने का काम कर रहे हैं। दानिश इक़बाल ने हवाला देते हुए कहा कि उन्होंने इस सम्बन्ध में ज़फ़रयाब जिलानी से फ़ोन पर बात करते हुए आग्रह किया कि आप ये पेटिशन न डालें, उनके सवालों का जवाब न देकर के ज़फ़रयाब जिलानी ने कहा कि हमें आपके मशवरे कि कोई ज़रुरत नहीं है और ये कहते हुए ज़फ़रयाब जिलानी ने दानिश इक़बाल का कॉल काट दिया।

दानिश इक़बाल का कहना है कि पूरे देश के मुस्लमान ज़फ़रयाब जिलानी और मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के ख़िलाफ़ हैं और उनका विरोध करते हैं।

Leave a Reply