विश्व क्रिकेट के इतिहास में 19 सितम्बर 2007 का दिन भारतीय क्रिकेट फैन्स कभी नहीं भूल सकते। आज का दिन वह दिन था जब पूर्व भारतीय हरफनमौला खिलाड़ी युवराज सिंह ने 2007 में दक्षिण अफ्रीका में खेले गए टी-20 विश्व कप के एक मैच में इंग्लैंड के तेज गेंदबाज स्टुअर्ट ब्रॉड की छह गेंदों पर लगातार छह छक्के लगाए थे।

टी-20 विश्व कप के इस पहले संस्करण में भारत ने ग्रुप चरण के मैच में इंग्लैंड को हराकर सेमीफाइनल में पहुंचने की अपनी उम्मीदों को जिंदा रखा था।

उस मैच में भारतीय टीम 18वें ओवर तक तीन विकेट पर 171 रन बना चुकी थी और वह अंतिम दो ओवरों में अधिक से रन बनाना चाहती थी।

ये भी पढ़ें: पाकिस्तान की संसद में उठा अल्पसंख्यक हिंदुओं की सुरक्षा का मुद्दा

इस प्रयास में युवराज और महेंद्र सिंह धोनी क्रीज पर डटे हुए थे। युवराज ने 18वें ओवर में एंड्रयू फ्लिंटॉफ की आखिरी दो गेंदों पर दो चौके जड़कर इंग्लैंड को हैरान कर दिया।

युवी ने इसके बाद अगले ओवर में जो किया वह अब तक इतिहास में दर्ज है और उस रिकॉर्ड को अब तक कोई नहीं तोड़ पाया है।

मैच का 19वां ओवर स्टुअर्ट ब्रॉड लेकर आए। युवराज ने ब्रॉड की पहली गेंद को डीप मिडविकेट के ऊपर से, दूसरी गेंद को फाइन लेग की दिशा में फ्लिक करते हुए, तीसरी गेंद को कवर और लॉन्ग ऑफ के बीच में से, चौथी गेंद पर ब्रॉड राउंड द विकेट आए, लेकिन युवी ने पॉइंट के ऊपर से, पांचवीं गेंद पर मिडविकेट के ऊपर से और फिर आखिरी गेंद पर वाइड लॉन्ग ऑन के ऊपर से शानदार छक्का लगाकर इतिहास रचा दिया।

ये भी पढ़ें: पाकिस्तान ने भारत के साथ पर्दे के पीछे से वार्ता को नकारा

युवराज ने इस दौरान 12 गेदों पर अपना अर्धशतक पूरा किया और टी-20 में वह ऐसा करने वाले पहले बल्लेबाज बने।

युवराज की इस शानदार पारी के दम पर भारत ने चार विकेट पर 218 रन का स्कोर बनाया और इंग्लैंड को छह विकेट पर 200 रन पर रोककर 18 रन से मैच जीत लिया।

भारत ने इसके बाद 24 सितम्बर 2007 को फाइनल में पाकिस्तान को हराकर चैम्पियन बनने का गौरव हासिल किया।

–आईएएनएस

ये भी पढ़ें: धोनी या कोहली जैसे बड़े नाम कभी सट्टेबाज़ों के झांसे में नहीं आएंगे

ये भी पढ़ें: अफ़ग़ानिस्तान में राष्ट्रपति की रैली में विस्फोट, 24 की मौत

Leave a Reply